कम उम्र में शराब पीने वालों की जा सकती है याददाश्‍त, वैज्ञानिकों का दावा-अगर न किया उपचार तो समय पर

, Health

कम उम्र में शराब पीने वालों की जा सकती है याददाश्‍त, वैज्ञानिकों का दावा-अगर न किया उपचार तो समय पर!

कम उम्र में शराब पीने वालों के लिए एक बुरी खबर आई है। जो लोग टीनएज में ही शराब पीने लगते हैं उनकी याददाश्‍त प्रभावित होने लगती है। इसके अलावा इससे लीवर पर तो बुरा असर पड़ता ही है, मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य भी बिगड़ सकता है।

एक नए शोध में यह तथ्‍य सामने आया है कि कम उम्र में ही ज्‍यादा शराब पीने की आदत अल्पकालिक याददाश्त पर बुरा असर डालती है। जेनूरोसी पत्रिका में प्रकाशित शोध के निष्कर्ष के मुताबिक, किशोरावस्था में अत्यधिक शराब पीने से दिमाग की उन कोशिकाओं की गतिविधियां बाधित होती हैं, जो अल्पकालिक याददाश्त के लिए जिम्मेदार होती है।

शोध कर्ताओं ने प्रयोग किया कि शराब पीने से बहुत बड़ी बीमारी होती है?

न्यूयार्क के कोलंबिया विश्वविद्यालय के माइकेल सेलिंग समेत शोधकर्ताओं के मुताबिक, प्रीफ्रंटल कोर्टेक्स (पीएफसी) किशोरावस्था के दौरान परिपक्व होता है, यह व्‍यवहार प्रबंधन में अपनी भूमिका निभाता है। किशोरावस्था में अत्यधिक शराब पीने से उसकी कार्यक्षमता पर असर पड़ता है।

न्युरोर्क के शोध कर्ताओं ने प्रयोग किया कि शराब पीने से बहुत बड़ी बीमारी होती है?

शोधकर्ताओं ने पाया कि किशोरावस्था में अल्कोहल के सेवन से दिमाग के पीएफसी पायरामिडल न्यूरॉन्स के गुणों में बदलाव आ जाता है, जो पीएफसी को दिमाग के अन्य क्षेत्रों से जोड़ता है, वह गुण प्रभावित होता है, इससे व्यवहार का विनिमयन प्रभावित होता है।

न्युरोर्क के शोधकर्ताओं ने कहा कि जो किशोरावस्था में शराब का सेवन करते हैं, उनकी पीएफसी की गतिविधियों में शिथिलता आ जाती है, इससे उन्हें संज्ञानात्मक कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है और बाद में यह शराब पीकर हुड़दंग करने, मारपीट करने जैसी गतिविधियों में बदल जाती है

Leave a Reply