DELHI-UP एंड हरियाणा के लोगो के लिए बहुत बड़ी खुशखबरी- अब बनेगा 8 लाइन का एक्सप्रेसवे जो जोड़ेगा जेवर अंतराष्ट्रीय एयरपोर्ट से

DELHI-UP एंड हरियाणा के लोगो के लिए बहुत बड़ी खुशखबरी- अब बनेगा 8 लाइन का एक्सप्रेसवे जो जोड़ेगा जेवर अंतराष्ट्रीय एयरपोर्ट से. जिससे लोगो को होगी सफर करने में आसानी. इंटरनेशनल एयरपोर्ट शुरू के बाद वाहनों की संख्या में होगा इजाफा ऐसा अनुमान लगया जा रहा है, इसलिए एक्सप्रेसवे 8 लेन के होने जा रहा है.  ऐसा इसलिए निरयण लिया सरकार ने की एक्सप्रेसवे पर 8 लाइन होनी चाहिए जिससे ट्रैफिक न बढ़ सके. और एयरपोर्ट बनने से वाहनों का दबाव न रहे इसलिए एक्सप्रेसवे 8 लाइन का होने जा रहा है.  अभी यमुना एक्सप्रेसवे ६ लाइन का है एयरपोर्ट बनने के बाद ट्रैफिक ज्यादा होने का अनुमान लगया जा रहा है इसलिए एक्सप्रेसवे का चौड़ीकरण किया जायेगा,  जिससे न केवल उत्तर प्रदेश वाशियो को लाभ मिलेगा बल्कि देहली हरियाणा के लोगो  को  भी लाभ मिलेगा, और जनहित हो लाभ मिलेगा. ग्रेटर नॉएडा से आगरा के एक्सप्रेसवे पर साल दर साल वाहनों की संख्या में इजाफा हो रहा है इसलिए प्रशासन ने कदम ,
उढाया है एक्सप्रेसवे को 8 लाइन का किया जाये जिससे सभी लोगो को अच्छी सुविधा का लाभ मिलेगा.

ग्रेटर नॉएडा आगरा के एक्सप्रेसवे पर रोजाना लहभग ३९-४१ हज़ार वहां चलते है , मथुरा से आगरा के लिए लगभग ३० हज़ार वाहन चलते हैं, तो इसलिए प्रशासन ने ये कदम उठया. ग्रेटर नॉएडा जेवर एयरपोर्ट बनने के बाद काहनो में तेजी से इजाफा होने के अनुमान लगाये जा रहे हैं.
PWDC की स्टडी के अनुसार नौमन लगया जा रहा है कि वाहनों की संख्या बढ़ने वाली है जैसे ही जेवर एयरपोर्ट शुरू होता है इसलिए एक्सप्रेसवे 8 लाइन का किया , और लगभग 6० हज़ार वाहनों की संख्या का अनुमान लगया जा रहा है? राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के मानक के अनुसार ग्रेटर नॉएडा आगरा एक्सप्रेसवे प्रतिदिन गुजरने वाले वाहनों की लगभग संख्या 6० हजार तक हो जाने पर ८ लाइन के एक्सप्रेसवे की जरुरत पड़ेगी. ये 8 लाइन का एक्सप्रेसवे तैयार होने के लिए प्रशासन ने २०२२-२०३३ तक पूरा करने का दावा किया.
ग्रेटर नॉएडा आगरा यमुना अथॉरिटी ने बसावट को लेके बड़े कदम उठाये हैं, जेवर हवाई अड्डे का संचालन शुरू होने के बाद यमुना एक्सप्रेस-वे पर वाहनों का दबाव कई गुना अधिक बढ़ जाएगा।

ग्रेटर नॉएडा आगरा यमुना एक्सप्रेस-वे को ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेस-वे से जोड़ने की भी योजना है।  इसलिए आगरा उत्तरी बाईपास को ग्रेटर नॉएडा आगरा यमुना एक्सप्रेस-वे से जोड़ने की स्थिति में यह वाहनों का दबाव डालने की स्थिति में नहीं रह जाएगा। यमुना एक्सप्रेस-वे पर जाम की विकराल स्थिति बन सकती है।  ग्रेटर नॉएडा आगरा यमुना प्राधिकरण ने आगरा बाईपास के लिए यमुना एक्सप्रेस-वे पर फ्लाइओवर बनाने के लिए एनएचएआइ को जेपी इंफ्राटेक को प्रस्ताव देने को कहा है। यह भी सुझाव दिया है कि एनएचएआइ 165 किलोमीटर आगरा पर यमुना एक्सप्रेस-वे से आगरा बाइपास को जोड़ सकता है। प्राधिकरण के तर्क पर एनएचएआइ ने भी सहमति जताई है। आगरा में यातायात व्यवस्था को बेहतर बनाने एवं जाम की समस्या के समाधान के लिए उत्तरी आगरा बाइपास का निर्माण हो रहा है। यह आगरा बाइपास एनएच-2 पर रायपुर जाट गांव के समीप से शुरू होकर एनएच-3 पर बाद्ध गांव के समीप मिलेगा। केंद्रीय भूतल परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने 2016 में इसका शिलान्यास किया था। उत्तरी आगरा बाईपास को एक्सप्रेस-वे से जोड़ने के एनएचएआइ के प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया गया है।

Leave a Reply